भारतीय रेल के हाल, जाना था महाराष्‍ट्र पहुंच गए मध्‍य प्रदेश

देश में आए दिन रेल हादसे होने की खबर सामने आती है। इसके लिए कभी रेलवे की दशा तो कभी आतंकवादियों को दोष दिया जाता है। लेकिन इस बार जो हुआ उससे रेलवे के सोते हुए अधिकारियों की कार्य शैली सामने आती है। दिल्‍ली से चली इस ट्रेन को जाना तो महाराष्‍ट्र था लेकिन वह 160 किमी गलत जाकर मध्‍य प्रदेश पहुंच गई। वो तो गनीमत है कि इस दौरान कोई हादसा नहीं हुआ।

दिल्ली से महाराष्ट्र के लिए रवाना हुई ट्रेन 160 किमी तक गलत दिशा में दौड़ती रही, लेकिन न तो रेलवे प्रशासन को इसकी जानकारी हुई और न ही ड्राइवर को। महाराष्‍ट्र जाने वाली यह ट्रेन जब मध्‍य प्रदेश के बानमेर पहुंची तब ड्राइवर को इस बात का अंदेशा हुआ कि वो गलत रूट में हैं।

किसान यात्रा रैली से लौट रहे थे किसान

रेलवे प्रशासन की इस लापरवाही का खामियाजा सैकड़ों यात्रियों को भी भुगतना पड़ा। ये यात्री बानमोर स्टेशन में फंस गए। अब रेलवे अधिकारियों को समझ नहीं आ रहा है कि वो क्या करें? दरअसल, सैकड़ों किसान महाराष्ट्र से दिल्ली के जंतर-मंतर में किसान यात्रा रैली में शामिल होने आए थे। जब ये किसान महाराष्ट्र लौट रहे थे, तो इनके लिए दिल्ली से महाराष्ट्र के लिए विशेष ट्रेन की व्यवस्था की गई।

160 किमी गलत दिशा में दौड़ती रही ट्रेन

यह ट्रेन दिल्ली से रवाना तो महाराष्ट्र के लिए हुई थी, लेकिन जब ये बरेली पहुंचे तो रास्‍ता बदल लिया और पहुंच गई मध्य प्रदेश। मजे की बात तो ये है कि 160 किमी तक गलत दिशा में ट्रेन चलती रही लेकिन न तो किसी अधिकारी ने सुध ली और न ही चालक का ध्‍यान इस पर गया।

बानमोर में फंसे यात्री मदन नाइक ने बताया कि जब उन्होंने इस बाबत ट्रेन के ड्राइवर से पूछा, तो उसने मथुरा स्टेशन में गलत सिग्नल दिए जाने की दलील दी। ड्राइवर ने कहा कि गलत सिग्नल के चलते यह गड़बड़ी हुई और ट्रेन मध्य प्रदेश आ गई।

 

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here