mehbuba-stonepelter-affects-bjp
Picture Credit - indianexpress.com

कुछ ही दिनों पहले घाटी में पत्‍थरबाजों ने वहां धूमने आए एक बंगाली परिवार पर पत्‍थर फेंका जिस कारण एक सैलानी की मृत्‍यु हो गई थी। इस घटना में वहां की मुख्‍यमं‍त्री महबूबा मुफ्ती ने खूब घडि़याली आंसू बहाए और कैमरे पर ऐसा जताया कि उन्‍हें बहुत दुख है इस घटना से। इसके बाद लोग ये उम्‍मीद करने लगे थे कि मुख्‍यमंत्री साहिबा कुछ कड़े निर्णय लेंगी।

भाजपा के लिए बनीं गले की फांस

लेकिन हुआ इसका उलट। कल महबूबा मुफ्ती ने एक तरह से भारत सरकार और इंडियन आर्मी से आतंकियों और पत्‍थरबाजों की जान की भीख मांग ली। मुफ्ती ने अपने बयान में कहा कि जिस तरह से वर्ष 2002 में अटल बिहारी बाजपायी की सरकार ने ‘अपनी तरफ से सीज फायर’ की घोषणा की थी उसी तरह जो मुहिम भारतीय सेना ने चलाई हुई है उसे कम से कम रमजान के महीने में रोक दिया जाए।

कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री की इस बात पर अभी तक कोई बयान तो नहीं जारी हुआ है लेकिन सेना प्रमुख ने इसको लेकर इशारों इशारों में संकेत दे दिए है कि आतंक और पत्‍थरबाजी किसी भी स्‍तर में स्‍वीकार नहीं कि जाएगी।

पत्‍थरबाजों के समर्थन में एक बार फिर बोली महबूबा, भाजपा के लिए बनीं गले की फांस
5 (100%) 2 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here