natural childbirth hindi

ब कोई औरत मां बनती है, तो उसके शरीर में कई तरह के रचनात्मक बदलाव आते हैं, जिसे पहचानने और समझने से आपकी परेशानी कम हो सकती है। आपके शरीर में  आनेवाले परिवर्तन इस प्रकार हो सकते हैं —

● आपका गर्भाशय ढीला हो सकता है। गर्भाशय को सख्त करने के लिए पेट को मलना होता है।

● आपके योनि से 2 से 4 सप्ताह तक रक्तस्राव होता रह सकता है। शुरू के कुछ दिनों के दौरान रक्तस्राव इतना ज्यादा होता है कि मानों तेज माहवारी हो रहा हो।

● योनि से खून के छोटे-छोटे थक्के निकल सकते हैं।

● अब रक्तस्राव कम हो सकता है और उसका रंग बदलकर गुलाबी, गहरा भूरा और फिर साफ हो सकता है।

● इन्हें साफ करने के लिए फाहों का उपयोग न करें। सेनेट्री पैड को इस्तेमाल में लाएं।

● प्रसव के 3 से 5 दिनों के बाद आपके स्तन दूध से भर जाएंगे।

● आपके स्तन सख्त और पीड़ादायक हो सकते हैं।

● कभी-कभी आपके स्तनों से दूध टपक भी सकते हैं।

● आपको कब्ज की शिकायत हो सकती है।

● मल कठोर हो सकता है। ऐसे में तरल द्रव का सेवन करना अच्छा रहेगा।

● पेशाब करने में दिक्कतें आ सकती हैं।

अपना ख्याल कैसे रखें

● जब आप पहली बिस्तर से उतरें, तो किसी की मदद जरूर लें।

● अब चलना शुरू करने से पहले कुछ मिनट तक बैठे रहें।

● अगर आपको चलने के दौरान या कहीं भी लगे कि आपको चक्कर आ रहे हैं, तो किसी को सहायता के लिए आवाज दें।

● दिन में 3 से 4 बार 5 से 10 मिनट तक अपने कमरे में या घर में ही इधर-उधर टहलें।

आपका आहार कैसा हो

● आपको थकावट या भूख महसूस हो सकती है। जब तक आप ठीक से पेय ले सकने लायक नहीं हो जाती हैं, संभव है आपके हाथ या बाजू के किसी अंतःशिरा से तरल पदार्थ देने की कोशिश की जाय।

● अगर आप सक्षम हैं, तो खूब तरल पदार्थ लें।

● शुरू-शुरू में हल्का भोजन लें। इसके बाद अपना सामान्य भोजन आरंभ कर सकती हैं।

अपने दर्द पर कैसे काबू पाएं

● प्रसव के बाद दर्द और ऐंठन का होना सामान्य बात है। टांकों के कारण जलन और टीस हो सकती है। जब भी आपको लगे कि इसे बर्दास्त करना मुश्किल हो रहा है, दर्द की दवा ले लें।

● आप अपनी योनि और गुदा के आसपास के हिस्से, जिसे अंग्रेजी में पेरीनियल पार्ट कहते हैं, में दर्द हो तो इस पर काबू कैसे करें।

● प्रसव के बाद के पहले दिन के दर्द और सूजन को कम करने के लिए अपने योनि और गुदा के आस पास के हिस्से पर थोड़ी-थोड़ी देर के लिए बर्फ का पैक रखें।

● गर्म पानी से स्नान करें। अपने बच्चे को जन्म देने के 24 घंटे के बाद नहाना शुरू कर सकते हैं।

● रक्तस्राव के कारण गुदा में होनेवाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए स्प्रे या क्रीम जैसी किसी दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं।

● संक्रमण और गंध को रोकने के लिए योनि और गुदा के आसपास के हिस्से को साफ सुथरा रखें।

● आप अपने पेरीनियल हिस्से को गर्म पानी से सेंक सकते हैं।

● अपने सेनिटरी पैड को बदलते रहें।

● अपने हाथ साबुन और पानी से साफ रखें।

● शॉवर के नीचे नहाना आपको अच्छा लग सकता है।

अपने घर में अपना देखभाल कैसे करें

● सीढ़ियों पर अधिक न चढ़ा करें।

● अपने शिशु से भारी वजन की कोई चीज न उठाएं।

● अपने घर का काम करने में कम से कम 2 सप्ताह तक किसी की सहायता लें।

● कम से कम 2 सप्ताह तक कार न चलाएं।

● यौन संबंध बनाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

● अगर आप कामकाजी हैं, तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही वापस काम पर जाएं।

यदि आपको निम्न में से कुछ हो तो डॉक्टर से संपर्क करें

● अगर आपको 101 डिग्री फारेनहाइट या 38 डिग्री सेल्सियस से अधिक बुखार हो।

● स्तन संक्रमण के कोई चिह्न विद्यमान हों, जैसे कि बुखा़र हो।

● किसी एक स्तन या दोनों स्तनों का कोई हिस्सा दुखता हो, लाल हो, गर्म या सख्त हो।

● योनि से भारी रक्तस्राव हो रहा हो।

● खून के बड़े-बड़े थक्के निकल रहे हों।

● योनि से दुर्गंधयुक्त स्राव हो रहा हो।

● मूत्र आने में तकलीफ, जलन और दर्द हो रहा हो।

● तीन दिनों तक शौच न हुआ हो।

● आपकी टांग पर कोई गर्म, सख्त चकता हो।

● आपकी टांग के निचले हिस्से में दर्द हो रहा हो।

● तेज दर्द और ऐंठन हो रहा हो।

● सिरदर्द हो रहा हो।

● धुंधला दिखाई दे या आपकी आंखों के आगे ओझल न होने वाले धब्बे दिखाई दें।

● बहुत अधिक दुःखी महसूस कर रही हों।

● आपको लगे कि आप स्वयं को या अपने शिशु को चोट पहुंचाना चाहती हैं।

सामान्य प्रसव के बाद कैसे करें स्वास्थ्य लाभ
Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here