गंगटोक ।। सिक्किम में आए विनाशकारी भूकम्प में मृतकों की संख्या गुरुवार को बढ़कर 78 हो गई। इस बीच, आपदा प्रभावित इलाकों के दौरे पर आए केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदम्बरम ने केंद्र सरकार की ओर से 50 करोड़ रुपये के मदद की घोषणा की।

बचाव अभियान में जुटे भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने 25 और लोगों को सुरक्षित निकाला है जबकि दूरदराज के गांवों में सैकड़ों लोगों के अभी फंसे होने की आशंका है।

राज्य में जारी बारिश और भूस्खलन से बचाव एवं राहत कार्य चलाने में जवानों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। आपदा प्रभावित कई स्थानों से अभी सम्पर्क बहाल नहीं हो सका है। राज्य का शेष भारत से सम्पर्क कटा हुआ है।

आपदा प्रभावित सिक्किम के दौरे पर आए चिदम्बरम ने राज्य को केंद्र सरकार की ओर से 50 करोड़ रुपये की मदद देने की घोषणा की है। चिदम्बरम ने राजधानी गंगटोक में मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग के साथ बैठक के दौरान यह घोषणा की।

चिदम्बरम गुरुवार सुबह गंगटोक पहुंचे और उन्होंने राजधानी के मनीपाल सेंट्रल रेफरल अस्पताल में घायलों से मुलाकात की। भूकम्प में 300 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया, “चिदम्बरम ने सिक्किम को केंद्र की ओर से 50 करोड़ रुपये की मदद देने की घोषणा की है। उन्होंने इस विनाशकारी भूकम्प से हुई तबाही से निपटने में हर प्रकार का सहयोग देने की बात कही है।”

चिदम्बरम ने बाद में भूकम्प से बुरी तरह प्रभावित उत्तर सिक्किम का हवाई सर्वेक्षण किया।

एक सरकारी अधिकारी का कहना है कि भूस्खलन के कारण बचावकर्मी उत्तरी सिक्किम के आंतरिक इलाकों में नहीं पहुंच पा रहे हैं और मरने वालों की तादाद और बढ़ सकती है।

उन्होंने कहा, “मरने वालों की तादाद बढ़कर 78 हो गई है। उत्तरी सिक्किम में मलबे से कुछ शव मिले हैं जबकि कुछ घायलों की अस्पतालों में मौत हो गई।” बुधवार रात तक मरने वालों की संख्या 68 थी।

राज्य में भारी बारिश के कारण कई स्थानों पर और भूस्खलन हुआ है। इससे राष्ट्रीय राजमार्ग 31 ए पर परिवहन अवरुद्ध हो गया है। मलबे को हटाकर सड़क मार्ग दोबारा शुरू करने की दिशा में काम जारी है। बुधवार रात तक मरने वालों की संख्या 68 थी।

वहीं, भूकम्प प्रभावित इलाकों में बचाव अभियान चला रहे आईटीबीपी ने बताया कि चार गर्भवती महिलाओं सहित कुल 25 लोगों को आपदा ग्रस्त क्षेत्रों से सुरक्षित निकाला गया।

आईटीबीपी के एक बयान के मुताबिक, “चार गर्भवती महिलाओं को मंगन जिला एवं चुंगथान अस्पताल भेजा गया जबकि रंगमा रेज से 18 भारतीय पर्यटकों और पेगांग से तीस्ता परियोजना के नौ कर्मचारियों को सुरक्षित निकाला गया।”

बयान में कहा गया, “निर्माण कार्य से जुड़े दो कर्मचारियों सहित तीन घायलों को अस्पताल भेजा गया।”

आईटीबीपी के मुताबिक आपदा प्रभावित रंगामा रेंज और पेगांग इलाके से निकाले गए 540 ग्रामीणों को पेगांग स्थित बल के 11वीं बटालियन के मुख्यालय में रखा गया है और पीड़ितों में 1000 कम्बल और 200 टेंट वितरित किए गए।

उल्लेखनीय है कि सिक्किम में रविवार शाम आए 6.8 तीव्रता के भूकम्प में 78 लोग मारे गए और 300 से अधिक लोग घायल हो गए।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here