Army Chief Bipin Rawat
Picture Source - ndtv.com

कश्‍मीर में किसी बड़े मिशन की सुगबुगाहट दिखाई देने लगी है। रमजान में शांति की कोशिश का आतंकवादियों ने मजाक बनाया है उससे केंद्र सरकार और आर्मी दोनों गुस्‍से में हैं।

ऐसे में केंद्र सरकार ने राज्‍यपाल शासन लगाकर सीधे-सीधे युद्ध का ऐलान तो कर ही दिया है लेकिन सब यह जानने के लिए बेकरार है कि ‘ऑल आउट पार्ट 2’ के नायक कौन होंगे।

आइए डालते हैं एक नजर।

राज्‍यपाल एनएन वोहरा:

वोहरा पूर्व आईएएस अधिकारी रह चुके हैं। वह वर्तमान समय में जम्‍मू कश्‍मीर के राज्‍यपाल है। इससे पहले उन्‍होंने गृह सचिव, डिफेंस सचिव और डिफेंस प्रोडक्‍शन सचिव जैसे महत्‍वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं। इस समय जम्‍मू कश्‍मीर के मुद्दे पर वह इतने महत्‍वपूर्ण हैं कि केंद्र सरकार राज्‍यपाल के तौर पर उनके कार्यकाल को और बढ़ाने वाली है।

NN Vohra
Picture source – indianexpress.com

वोहरा पहले भी कई बार सीमावर्ती गांवों में सरकार की मजबूत पकड़ को लेकर बात कहते रहे हैं। वोहरा के मुताबिक सीमा की सुरक्षा के लिए सबसे जरूरी आतंरिक मजबूती है और अब वह इस दिशा में काम करेंगे।

के विजय कुमार

तमिलनाडू कैडर के 1975 बैच के आईपीएस अधिकारी के विजय कुमार अपने तेज रर्रार रवैये और दुश्‍मन के खत्‍म करने की अचूक रणनीति के लिए जाने जाते हैं। इसकी उपलब्‍धियों में सबसे अहम विरप्‍पन को उसके आखिरी अंजाम तक पहुंचाने वाली टीम का हिस्‍सा होना है।

k vijay kumar
Picture Source – starsunfolded.com

इनका इतिहास रहा है कि जहां जहां आतंकी या नक्‍सली से बदला लेने की योजना सरकार ने बनाई वहां इस निडर ऑफिसर का तबादला कर दिया गया। 2010 में भी दंतेवाडा में 75 जवानों की हत्‍या का बदला लेने के समय इनको सीआरपीएफ का डायरेक्‍टर जनरल बनाकर भेजा गया।

बी बी व्‍यास

बीबी व्‍यास भी पूर्व आईएएस अफसर रह चुके हैं। इन्‍हें राज्‍यपाल एनएन वोहर का बहुत करीबी माना जाता है। व्‍यास अपने फास्‍ट एक्‍शन के लिए आईएएस लॉबी में बहुत फेमस हैं।

BB-Vyas
Picture Source – kashmirmediawatch.com

इन्‍हीं कारण से राज्‍य के मुख्‍य सचिव रहने के दौरान उन्‍हें एक साल का एक्‍सटेंड दिया गया था। अब वह राज्‍यपाल के सलाहकार के तौर पर काम करेंगे।

सेना प्रमुख बिपिन रावत

बिपिन रावत अब तक के सबसे तेज रर्रार सेना प्रमुखों में से एक हैं। जिस तरह से बिपिन मीडिया में आकर अपने मंसूबे बयां करते हैं और कश्‍मीर मुद्दे पर अपनी राय रखते हैं उससे साफ हो जाता है कि अगर इन्‍हें छूट दे दी जाए तो वह आतंकवादियों का क्‍या हाल करेंगे।

Army Chief Bipin Rawat
Picture Source

अब जब राज्‍य सरकार डिजॉल्‍व हो चुकी है तो सेना ज्‍यादा मुस्‍तैदी से अपने प्‍लान के हिसाब से अपने ऑपरेशन को अंजाम दे पाएगी, इतना ही नहीं अब पुलिस को भी सेना का साथ देने के लिए मजबूर होना होगा।

बीवीआर सुब्रमण्‍यम

छत्‍तीसगढ कैडर के इस आईएएस अधिकारी को जम्‍मू कश्‍मीर राज्‍य का नया मुख्‍य सचिव नियुक्‍त किया गया है। यह काम एक सोची समझी रणनीति का हिस्‍सा है। इससे पहले सुब्रमण्‍यम छत्‍तीसगढ़ के गृह सचिव के पद पर थे। इन्‍हें आतंरिक सुरक्षा जैसे महत्‍वपूर्ण विषय का विशेषज्ञ माना जाता है।

B V R Subrahmanyam
Picture Source – financialexpress.com

कश्‍मीर में आतंकवाद जैसी समस्‍या का समाधान करने के लिए राज्‍यपाल एनएन वोहरा इसी आतंरिक सुरक्षा पर जोर देने की बात कहते रहे हैं। ऐसे में सुब्रमण्‍यम का यहां आना साफ संकेत दे रहा है कि अब राज्‍यपाल आमने सामने की लड़ाई छेड़ने वाले हैं। सुब्रमण्‍यम मनमोहन सिंह और नरेद्र मोदी दोनों के साथ पीएमओ में रह चुके हैं।

हिंदी जगत से जुड़ी ऐसी सभी जानकारी पाने के लिए like करें हमारा Facebook पेज

औरंगजेब का बदला कुछ यूं लेगी आर्मी, बन रही है ये खतरनाक टीम
3.3 (65.45%) 11 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here